Sridevi Biography In Hindi- श्रीदेवी कपूर की जीवनी

ये सभी लेवल और दाम मुझे डराते हैं, मैं बहुत साधारण हूँ, और मैं हमेशा ख़ुद को नए कलाकार के रूप में समझती हूँ क्योंकि मैं कभी भी सीखना बन्द नहीं करती।                                                                           – श्रीदेवी

भारतीय फिल्म इंडस्ट्री की पहली महिला सुपरस्टार और ‘मिस हवा हवाई’ के नाम से मशहूर श्रीदेवी न सिर्फ बॉलीवुड बल्कि तमिल, तेलुगु समेत भारतीय सिनेमा के इतिहास का अभिन्न हिस्सा रही हैं I जिस फिल्म इंडस्ट्री पे हमेशा से मेल एक्टर्स का दबदबा बना रहता है, वहां पर श्रीदेवी ने अपने हुनर से ऐसा तहलका मचाया की उन्हें अपने समय में फिल्मों में काम करने के लिए मेल एक्टर्स से ज्यादा पैसे दिए जाते थे I  कुछ ऐसी ही थी मिस हवा हवाई…..तो आज के इस पोस्ट श्रीदेवी बायोग्राफी इन हिंदी Sridevi Biography In Hindi के माध्यम से हम आपको श्रीदेवी के जीवन से जुड़ी कुछ ख़ास बातें आपके सामने रखने वाले हैं I

असल जीवन में बेहद गंभीर थी श्रीदेवी-

श्री अम्मा यंगर अय्यपन यानी कि श्रीदेवी का जन्म 12 अगस्त 1963 को तमिलनाडु के शिवकाशी शहर में हुआ था। श्रीदेवी के पिता का नाम अय्यपन यंगर और माता का नाम राजेश्वरी यंगर था। उनके पिता एक वक़ील थे। श्रीदेवी की बहन का नाम श्रीलता है साथ ही उनके दो सौतेले भाई भी है जिनका नाम सतीश और आनन्द है। फिल्मों में अक्सर काफ़ी चुलबुले क़िरदार निभाने वाली श्रीदेवी अपने निज़ी जीवन मे बचपन से ही बहुत शांत और गंभीर थी। बेहद कम उम्र में ही फ़िल्म इंडस्ट्री में अपना डेब्यू करने वाली श्रीदेवी ने अपना पूरा जीवन ही इसमे समर्पित कर दिया। बचपन मे जब श्रीदेवी फिल्मों की शूटिंग के लिये आती थी तो उनका ध्यान रखने के लिए फ़िल्म के सेट पर उनकी माँ या बड़ी बहन में से कोई एक जरूर मौजूद होती थी। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इतनी सुन्दर अभिनेत्री श्रीदेवी ने बहुत सी फिल्मों में लड़को के किरदार भी निभाएं हैं।

श्रीदेवी के जीवन सफ़र पर एक नज़र-

साल 1963 – में तमिलनाडु के शिवकाशी शहर में जन्म हुआ।
साल 1967 – मात्र 4 वर्ष की ही उम्र में तमिल फिल्म ‘कंदन करुणाई’ से अपने फिल्मी सफ़र की शुरुआत की।
साल 1976 – तमिल फिल्म ‘मुंधरा मुदिचु’ में पहली बार एक हीरोइन के रूप में काम किया।
साल 1979 – में आयी फ़िल्म ‘सोलवा सावन’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया।
साल 2013 – में ‘पद्मश्री’ से सम्मानित की गयी।
साल 2018 – इस दुनिया को अलविदा कह गयी।
साल 2018 – श्रीदेवी की मौत के बाद रिलीज़ हुयी फ़िल्म ‘मॉम’ के लिए उन्हें ‘बेस्ट एक्ट्रेस’ का नेशनल फ़िल्म अवॉर्ड दिया गया।

बाल कलाकार के रूप में की थी फिल्मों में एंट्री- 

श्रीदेवी ने साल 1967 में मात्र 4 साल की अवस्था मे तमिल फिल्म ‘कंदन करुणाई’ से अपने फ़िल्मी  करियर की शुरुआत की थी। बॉलीवुड में आने से पहले वो बहुत सी मलयालम और तेलगु फ़िल्मों में अपने अभिनय का जलवा बिखेर चुकी थी। साल 1972 में आयी फ़िल्म ‘रानी मेरा नाम’ से श्रीदेवी ने बॉलीवुड में एंट्री मारी। इस फ़िल्म में वो बाल कलाकार के रूप में नज़र आयी। श्रीदेवी बाल कलाकार के रूप में भी काफ़ी हिट रही हैं। साल 1975 के पहले तक वो लगभग 10 फिल्मों में बतौर बाल कलाकार नज़र आ चुकी थी।
साल 1976 में रिलीज़ हुई तमिल फिल्म ‘मुंधरा मुदिचु’ में वो पहली बार मुख्य अभिनेत्री के रूप में नज़र आयीं। इसके बाद तो श्रीदेवी ने तमिल फिल्मों में हिट की झड़ी लगा दी। उन्होंने बतौर मुख्य अभिनेत्री 16 व्यथिनील(1977), ‘सिगप्पू रोजक्कल(1978), प्रिया (1978) और जॉनी(1980) जैसी हिट तमिल फिल्में दी हैं। इसके साथ ही उन्होंने बोबिलि पुली(1982), जगडेका वीरुदु अथिलोका सुन्दरी (1990) और कशना काशनम(1991) जैसी ब्लाकबस्टर तेलुगु फिल्मों में भी अपने अभिनय का लोहा मनवाया।
उनकी बतौर मुख्य अभिनेत्री पहली बॉलीवुड फ़िल्म ‘सोलवा सावन’ साल 1979 में रिलीज़ हुई थी। इसके बाद उन्होंने धीरे-धीरे बॉलीवुड में भी अपनी धाक जमानी शुरू कर दी। ब्लाकबस्टर हिट फिल्म ‘हिम्मतवाला'(1984) में वो सुपरस्टार जितेन्द्र के साथ नज़र आयीं। इस फ़िल्म ने श्रीदेवी को रातोंरात बॉलीवुड की टॉप अभिनेत्री का दर्ज़ा दिलवा दिया। श्रीदेवी यहीं नहीं रुकी बल्कि इसके बाद वो बॉलीवुड की बहुत सी सुपरहिट फिल्म जैसे कि सदमा(1983), नगीना(1986), कर्मा(1986), मिस्टर इंडिया(1987), चाँदनी(1989), खुदा गवाह (1992) और जुदाई(1997) में भी अपने अभिनय से सबके दिलों को जीतती गयीं।

जब श्रीदेवी पर लगा घर तोड़ने का आरोप- 

80 के दशक में एक ऐसा समय भी आया था जब श्रीदेवी और मिथुन चक्रर्ती के अफेयर के चर्चे पुरे देश में गूँज रहे थे, और फिर साल 1985 में  श्रीदेवी ने मिथुन चक्रवर्ती के साथ शादी भी कर लिया था I हालाँकि मिथुन और श्रीदेवी का रिश्ता ज्यादा दिन चल नहीं सका I शादी के महज 3 साल बाद ही साल 1985 मे उन दोनों का तलाक हो गया I मिथुन से तलाक होने के कुछ साल बाद ही श्रीदेवी की फिल्म निर्माता बोनी कपूर के साथ नजदीकियां बढ़नी शुरू हो गयी I

उस वक्त बोनी भी शादी- शुदा थे और उनके बच्चे भी थे,  लेकिन श्रीदेवी के प्यार में बोनी ने अपनी पहली पत्नी मोना शुरी कपूर को साल 1996 में तलाक दे दिया I फिर इसी साल बोनी ने श्रीदेवी के साथ शादी कर लिया I उस वक्त श्रीदेवी को काफी आलोचना का भी सामना करना पड़ा था I उनके ऊपर बोनी कपूर का घर तोड़ने का भी आरोप लगाया जाता था I फिल्म अभिनेता अनिल कपूर के बड़े भाई बोनी कपूर ने जब श्रीदेवी से शादी की थी तब वो अर्जुन कपूर और अंशुला कपूर के पिता भी थे I

हालाँकि श्रीदेवी से भी उनकी दो बेटियां हुयी जिनका नाम जान्हवी और ख़ुशी कपूर है I बोनी कपूर ने श्रीदेवी की वजह से अपनी पहली पत्नी को तलाक दिया था और बेहद कम उम्र में अर्जुन कपूर और उनकी बहन को अपने पिता से दूर होना पड़ गया था, शयद इसी वजह से अर्जुन कपूर कभी भी श्रीदेवी को पसंद नहीं करते थे I  श्रीदेवी की बेटी जान्हवी कपूर ने साल 2018 में आयी फ़िल्म ‘धड़क’ से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत भी कर दी है। वहीं अर्जुन कपूर भी फिल्मों में काफी एक्टिव हैI

फिल्मों में वापसी- 

साल 1997 में आयी सुपरहिट फिल्म जुदाई के बाद श्रीदेवी कुछ समय के लिए फिल्मों से दूर हो गयी थी। इसके बाद साल 2012 में वो एक बार फ़िर से फ़िल्म ‘इंग्लिश विंग्लिश’ से अभिनय की दुनिया मे वापस आयीं। इस बार भी श्रीदेवी पहले की ही तरह जबरदस्त अभिनय करती दिखी। लोगों ने एक बार फिर से उनके काम को सराहा और फ़िल्म को सुपरहिट का दर्ज़ा मिला।  इसके साथ ही श्रीदेवी एक तमिल भाषा की फ़िल्म ‘पुली’ में भी नज़र आयीं जो कि 2015 में रिलीज़ हुई थी। 2012 के बाद साल 2017 में श्रीदेवी एक बार फिर से फ़िल्म ‘मॉम’ में दमदार क़िरदार निभाते नज़र आयीं। ये श्रीदेवी की 300वीं फ़िल्म थी। इस फ़िल्म में उनके द्वारा निभाये गए शसक्त माँ के किरदार के लिए उन्हें 65वें राष्ट्रीय फ़िल्म अवॉर्ड द्वारा बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड दिया गया।

पुरस्कार और सम्मान- 

अपने 5 दशक के फिल्मी करियर में श्रीदेवी ने बहुत से अवॉर्ड अपने नाम किये हैं। वो दक्षिण भारतीय फ़िल्मफ़ेयर अवॉर्ड, नंदी अवॉर्ड, फ़िल्मफ़ेयर अवॉर्ड, आइफा अवॉर्ड, ज़ी सीने अवॉर्ड, स्टारडस्ट अवॉर्ड और कई राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार भी जीत चुकी हैं। इसके साथ ही साल 2013 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

अलविदा ‘मिस हवा हवाई’

वो 24 फ़रवरी 2018 की रात थी जब करोड़ो दिलो की धड़कन थामने वाली ‘हवा हवाई’ ने इस दुनिया को सदा के लिए अलविदा कह दिया। श्रीदेवी उस वक्त एक कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए दुबई गयी हुई थी। यही के जुमेराह इमिरात टॉवर होटल के रूम में बाथटब में गिरने की वज़ह से श्रीदेवी की मौत हो गयी।

Leave a Comment

instagram volgers kopen volgers kopen buy windows 10 pro buy windows 11 pro